05 नवंबर 2012

राजस्थान के मरु अंचल के जैतारण में जन्मे दरियाव जी महाराज कबीर की भांति मारवाड़ में सदुपदेश और जनकल्याण को अपने जीवन का ध्येय बनाने वाले अनोखे संत थे ,

उनकी बातें लगती साधारण है लेकिन उनका महत्व और सीख दूरदर्शितापूर्ण है, जैसे -

दरिया गैला जगत से , समझ औ मुख से बोल ,
नाम रतन की गांठड़ी, गाहक बिन मत खोल,



3 टिप्‍पणियां:


  1. दरिया गैला जगत से , समझ औ मुख से बोल
    नाम रतन की गांठड़ी, गाहक बिन मत खोल

    वाऽह ! क्या बात है !
    बहुत खूबसूरत !

    दरियाव जी महाराज का अच्छा चित्रण !
    बेहतर प्रस्तुति !



    शुभकामनाओं सहित…

    उत्तर देंहटाएं
  2. Ram Gopal ji aapaki kawitao ko padh kar achha laga, khushi huyi aap rajasthani me likhate hai. mai bhi rajasthan ka hi hun, aur Ladnun tahasil me ek chota sa ganw hai Baldu wahan se. Meri 10 ween tak padhai jaswanatgarh me hee huyi thi aur aapake ganw ke tin sathi mere sath the, jisame ek Bhanwarlal, ek sharmaa aur ek kaa nam abhi yaad nahi aa rahaa hai. us samay head master the Sri Sitaramji Dadhich, Sujangarh se. aap mere in khoye dosto ka pataa lagaa kar bata sake to mujhe khusi hogee. Mere blog http://santam sukhaya.blogspot.com me meri likhi kavitaye padhe aur apni prtikriya de.

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bhanwarlal Prajaapat tha aur Nandkishore Sharmaa tha.

    उत्तर देंहटाएं